May 21, 2024

HULCHUL INDIA 24X7

बेबाक खबर तेज असर

जलालाबाद में एकादशी पर्व पर मंदिरों में संकीर्तन कर भगवान श्री कृष्ण की पूजा अर्चना की गई

जलालाबाद/शामली

मंदिरों में एकादशी पर संकीर्तन किया । भगवान श्री कृष्ण की पूजा अर्चना की। भजन प्रवचन से एकादशी पर्व मनाया गया।

जलालाबाद कस्बे के राधा कृष्ण मंदिर मोती बाजार, राधा कृष्ण मंदिर राम रतन मंडी ,पंजाबी सत्संग मंदिर कटहरा बाजार, मे एकादशी पर्व पर संकीर्तन- प्रवचन आयोजित किए । पंजाबी सत्संग मंदिर में पंडित संजय नौटियाल ने एकादशी पर्व की महत्ता के बारे में बताया की हिंदू पंचांग अनुसार प्रत्येक माह की तिथि को एकादशी तिथि कहते हैं। यह तिथि एक माह में पूर्णिमा और अमावस्या के बाद आती है। पूर्णिमा के बाद आने वाली एकादशी को कृष्ण पक्ष की एकादशी अमावस्या के बाद आने वाली एकादशी को शुक्ल पक्ष की एकादशी कहते हैं। दोनों प्रकार एकादशी का भारतीय सनातन संप्रदाय में विशेष महत्व है। भगवान नारायण को एकादशी पर्व प्रिय है। एकादशी व्रत में भगवान से नहीं मांगना चाहिए बल्कि भगवान की भक्ति मांगनीचाहिए। एकादशी पर पूजा अर्चना से नर्क में पड़े पितरों का भी कल्याण होता है। सुंदर भजनों का गायन श्रद्धालु महिलाओं ने किया। भजनों के माध्यम से भगवान नारायण का गुणगान किया। स्वाति नारंग, अंजलि नारंग, सुनीता ,मनीषा ,परी, बोधराज नारंग का कार्यक्रम में सहयोग रहा।

रिपोर्ट:-सतेन्द्र राणा
थानाभवन, शामली
9411608030

error: Content is protected !!