October 19, 2021

HULCHUL INDIA 24X7

बेबाक खबर तेज असर

फिर से हुआ यमुना का चीरहरण शुरू

सन्नी गर्ग

  • प्रशासन द्वारा पांच साल के लिए छोड़े गए चार खनन प्वाइंट
  • पूर्व में लगते रहे अवैध खनन के आरोप
  • प्रशासन की ओर से टीम गठित कर होती रही कार्यवाही

कैराना। यमुना नदी में प्रशासन की ओर से कैराना कोतवाली क्षेत्र में चार खनन पट्टे पांच साल के लिए छोड़े गए है। जिनसे खनन ठेकेदारों द्वारा मानकों के अनुरूप खनन करने की अनुमति प्राप्त है। एनजीटी के आदेशों के अनुरूप बरसात में खनन बन्द रहने के कारण तीन माह बाद खनन ठेकेदारों की ओर से यमुना नदी में स्थित प्वाइंटों पर कार्य शुरु करने की तैयारियां की जा रही है।

कैराना क्षेत्र में ममौर, नगलाराई, खुरगान व मंडावर में पांच साल के लिए खनन करने के लिए वैध पट्टे ठेकेदारों के नाम छोड़े गए है।जिनसे मानकों के अनुरूप खनन करने का अधिकार दिया गया।बरसात के कारण तीन माह बाद अक्टूबर में फिर से खनन करने कार्य करने के लिए ठेकेदारों ने अपने अपने रास्ते आदि बनाने का कार्य शुरू कर दिया है। हालांकि अभी यमुना नदी में बहाव अधिक होने के कारण कार्य धीमी गति से प्रगति की ओर है।वही पूर्व में खनन ठेकेदारों पर मानकों को ताक पर रखकर खनन करने का भी आरोप लगते रहे है।शिकायतों का संज्ञान लेने पर प्रशासन व खनन विभाग की ओर से कार्यवाही भी की गई है।पूर्व में ठेकेदारों की ओर से किये जाने वाले कार्य को प्रशासन व खनन विभाग कितनी गंभीरता से लेता है।वही नगलाराई खनन पॉइंट पर जुर्माना भी हो चुका है साथ ही करीब तीन दिन पूर्व भी नगलाराई खनन पॉइंट पर प्रशासन द्वारा छापेमारी कार्यवाही करते हुए मौके से अवैध तरीके से खनन करते हुए मशीनें चीज की गई है।