May 28, 2024

HULCHUL INDIA 24X7

बेबाक खबर तेज असर

कड़ी धूप में रोजेदारों ने रमजान के दूसरे जुमे की नमाज की अदा,देश में अमन चैन के लिए मांगी दुआ

सन्नी गर्ग

कैराना। रमजान के दूसरे जुमे की नमाज मस्जिदों में की गई अदा, कड़ी धूप में भी रोजेदारों ने जुमे की नमाज अदा कर देश में अमन चैन की दुआ मांगी,
बता दें कि करोना की पाबंदी के बीच 2 सालों से देश में एक साथ नमाज पढ़ने की पाबंदी लगी हुई थी। पाबंदी हटने के बाद रमजान के दूसरे जुम्मे की नमाज मस्जिदों में अदा की गई, इस दौरान देश में अमन चैन की दुआ मांगी गई, करोना पाबंदियों के बाद 2 साल बाद रमजान के जुम्मे की नमाज में 2 साल बाद फिर से रौनक लौट आई, मुकद्दस रमजान मैं की गई रोजे की इबादत ना सिर्फ इंसान के जिस्म को कुव्वत पहुंचाती है। बल्कि उसको रुहानी सुकून भी आता करती है। रमजान के महीने में इंसान सुबह 4:00 बजे शहरी से लेकर शाम 7:00 बजे तक खाने की पाबंदियों को लेकर पूरा दिन रोजा रखता है। अल्लाह ताला अपने उन बंदों की अपनी बारगाह में बक्श देता है। जिन बंदों ने रमजान के मुकद्दस महीने में रोजा रख पूरा दिन खाने पीने से सब्र किया। और कुरान की तिलावत की,अल्लाह ताला से नमाज अता कर दुआ मांगी। रमजान के मुकद्दस महीने के 30 दिन तक यदि कोई बुराई को छोड़ दे तो वह बुराई से हमेशा दूर हो जाता है। रमजान के रोजे की इबादत इंसान के नफ़्स को पाक साफ कर देती है। कारी अनीश फरमाते हैं कि जो लोग रमजान के मुकद्दस महीना बरकत का महीना है। इस महीने में इंसान अपने अल्लाह से जो मांगना चाहे वह मिलता है। उन्होंने कहा कि रमजान के मुकद्दस महीने के रोजे रखने से बहुत सी बीमारी दूर होती है। इस मुकद्दस महीने में अल्लाह ताला अपने बंदो को निहमत अता फरमाता है। उन्होंने कहा कि दिन भर भूखा प्यासा रहने का मतलब रोजा नहीं है। बल्कि अपने नफ़्स पर काबू कर बुराइयों को छोड़ने का नाम रोजा है। इस मुकद्दस महीने में शैतान को अल्लाह ताला पिंजरे में बंद कर देते हैं। ताकि वह अल्लाह के बंदों को रोजा रखने वह नमाज पढ़ने मैं रुकावट ना बन सके।

error: Content is protected !!